top of page

स्वप्न देखने का शुभाशुभ फल


स्वप्न- फल

आकाश की ओर उड़ना----लम्बी यात्रा हो

सूर्य को देखना----किसी महात्मा के दर्शन हो

बादल देखना----तरक्की हो

घोड़े पर चढ़ना----व्यापार में उन्नति हो

शीशा में मुंह देखना----स्त्री से प्रेम हो

ऊँचे से गिरना----हानि हो, कष्ट हो

बाग फुलवारी देखना----खुशी प्राप्त हो

बारात देखना----रंज हो, स्त्री देखे दुःखी हो

पानी बरसता देखना----अनाज मन्दा

सिर के कटे बाल देखना----कर्ज से छुटकारा मिले

पाखाना देखना----धन का लाभ हो

सफेद बाल देखना----आयू बढ़े

पहाड़ पर चढ़ना----उन्नति प्राप्त हो

शरीर में पाखाना लगना----काफी धन मिले

पाखाना खाना----पूर्ण धनवान् हो, खजाना पाने

पाखाना करना----धन प्राप्त हो

फूल देखना----प्रेमी मिले

छाती देखना----स्त्री वश हो

पानी पीना----व्यापार में लाभ हो

पान खाना----सुन्दर स्त्री मिले

पानी में डूबना----अच्छे काम करे

हरी तरकारी देखना----प्रसन्नता प्राप्त हो

हँसता देखना----रंज प्राप्त हो

रोते देखना----प्रसन्नता प्राप्त हो

जहाज देखना----दूर की यात्रा हो

झण्डा देखना----धर्म की वृद्धि हो

जवाहरात देखना----आशाएं पूर्ण हों

स्त्री-प्रसंग----धन की प्राप्ति हो

लड़ाई करना----प्रसन्नता प्राप्त हो

जुआ खेलना----व्यापार में लाभ हो

चन्द्रमा देखना----प्रतिष्ठा प्राप्त हो

नदी में तैरते देखना----कष्ट दूर हो।

32 views0 comments

Recent Posts

See All

हर एक व्यक्ति के जीवन में किसी न किसी प्रकार की समस्याएं अवश्य उत्त्पन्न होती है लेकिन उस पर सबसे अधिक प्रभाव वैवाहिक जीवन में होने वाली समस्याओं से पड़ता है। हम इन उत्त्पन होने वाली समस्याओं को कुछ सं

प्रकृति के पंचतत्व और शरीर के पंचतत्वों के बीच सामंजस्य रखने के लिए हमें वास्तु की आवश्यकता होती है| जिस प्रकार हम शरीर के सभी अंगो का उपयोग ठीक प्रकार से इसलिए कर पाते है क्यूंकि उनका स्थान नियत है|

१. सभी कुछ ठीक होने के बाद भी घर में संतान न होना| २.बिना वजह अस्वस्थ रहना| ३.आर्थिक तथा मानसिक समस्या का रहना| ४.नींद न आना तथा अत्यधिक गुस्सा- चिड़चिड़ापन रहना| ५. पारिवारिक सम्बन्धो में दरार आना| ६.

bottom of page